विंडोज रजिस्ट्री क्या है? और इसकी विशेषता (windows registry kya hai)

विंडोज रजिस्ट्री, जिसे आमतौर पर हम संदर्भित करते हैं। यह माइक्रोसॉफ्ट विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में डेटाबेस कॉन्फ़िगरेशन सेटिंग्स की संग्रह की तरह कार्य करता है।

यदि आपने अपनी विंडोज़ में कुछ अहम और महत्वपूर्ण सॉफ़्टवेयर स्थापित किए हैं, तो आपको जानने में मिलेगा कि, हर एक सॉफ़्टवेयर में पथ, स्थान, पते की भी ज़रुरत पड़ती है। जिसमे थीम, संसाधन, सॉफ़्टवेयर के अलावा सॉफ़्टवेयर संस्करण भी शामिल होता है।

सब कुछ स्थापित करने के लिए उपयोग की जाने वाली जगह को विंडोज रजिस्ट्री के नाम से जानते हैं। विंडोज रजिस्ट्री एक बहुत अनूठा और बेहतरीन तरीके का डेटाबेस माना जाता है।

विंडोज रजिस्ट्री सफाई क्यों आवश्यक है?

जब आपका कंप्यूटर धीरे-धीरे शुरू होता है, तो यह छोड़ने लगता है कि क्या आपका कंप्यूटर फ्रीज या क्राफ्ट करना शुरू करता है। तो इससे मालूम पड़ता है कि, आपको विंडोज रजिस्ट्री को साफ करने की बहुत जरूरत है।

हमारे विंडोज रजिस्ट्री में अनेकों प्रविष्टियां शामिल हैं और नया प्रवेश बजी करते हैं और जब यह प्रविष्टि आवश्यकता से अधिक हो जाती है, तब हमारे पीसी पर बहुत ज्यादा प्रभाव आता है।

विंडोज में सबसे बड़ी समस्या यह खड़ी होती है कि, हर बार जब भी हमने सॉफ़्टवेयर को ध्यान नहीं दिया है, तो सॉफ़्टवेयर से जुड़ी कई संपूर्ण रजिस्ट्री इसे कभी नहीं हटाया जाएगा।

इस वजह से, हम इस विंडोज रजिस्ट्री को साफ करने की बहुत ही ज़रूरत पड़ती है। आप मैन्युअल तरीके से, गलत रजिस्ट्री को साफ नहीं कर सकते हैं, फिर विंडोज सेटिंग्स पर प्रभाव संभव है, इसलिए आप इसके लिए CCleaner नामक तकनीक की सहायता लेते हैं।

विंडोज रजिस्ट्री क्यों उपयोग की जाती है?

विंडोज रजिस्ट्री सूचना व सेटिंग्स को स्टोर करने के लिए सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम का इस्तेमाल किया जाता है। जहां हार्डवेयर डिवाइस, उपयोगकर्ता प्राथमिकताएं, ऑपरेटिंग सिस्टम कॉन्फ़िगरेशन इत्यादि ये सब विशेष रूप से शामिल हैं।

उदाहरण के तौर पर, जब आप कोई नया प्रोग्राम शुरू करते हैं, तो निर्देश और संदर्भ स्वचालित रूप से रजिस्ट्री में, किसी निश्चित और ठोस स्थान पर, प्रोग्राम के लिए, और उनके साथ बातचीत करने वाले अन्य लोगों के लिए कई अन्य चीजें हैं जानकारी जहां फ़ाइल है वह जगह में है, प्रोग्राम में अच्छे और नायाब विकल्प का उपयोग करें।

विंडोज रजिस्ट्री कैसे समारोह करता है?

विंडोज रजिस्ट्री, विंडोज डिफ़ॉल्ट सेटिंग्स, ऑपरेटिंग सिस्टम कॉन्फ़िगरेशन, हार्डवेयर कॉन्फ़िगरेशन, नियंत्रण कक्ष सेटिंग्स में सॉफ़्टवेयर सेटिंग्स और प्रोग्राम को इंस्टॉल करने के कार्य मे शामिल किया जाता है।

हर बार जब हम सॉफ़्टवेयर या विंडोज प्रोग्राम में लोड होते हैं, तो सभी डेटा बेस विंडोज रजिस्ट्री में आ जाता है। प्रत्येक बार जब हम इन विंडोज में कुछ परिवर्तन करते हैं तो स्वचालित रूप से स्वयं को विंडोज रजिस्ट्री में बदलते हैं।

उदाहरण के लिए, हर बार जब सॉफ़्टवेयर विंडोज़ पर स्थापित होता है, तो रजिस्ट्री में उप-कुंजी एक उप कुंजी बन जाती है। जहां सॉफ़्टवेयर स्थापना होती है, इस सॉफ़्टवेयर को आरम्भ में लाने की तकनीक, कुछ अहम सेटिंग्स इत्यादि । महत्वपूर्ण बात ये ध्यान में रखें कि, इसे स्वचालित रूप से स्थापित करें। आप चाहे तो रजिस्ट्री पर जाकर सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी ग्रहण कर सकते हैं।

सबसे खास चीज़ यह है कि, हम विंडोज रजिस्ट्री भी पढ़ सकते हैं और अगर हमें इसकी आवश्यकता है, तो हम इसमें भी बदलाव कर सकते हैं। रजिस्ट्री विंडोज का बहुत बड़ा हिस्सा माना जाता है।

सॉफ़्टवेयर के अलावा, विंडोज को विंडोज रेफरेंस, डेटाबेस इत्यादि की आवश्यकता होती है। इन सबके अलावा, इन्हें बस विंडोज रजिस्ट्री में स्थापित करने की ज़रूरत है। इसके अलावा ऑपरेटिंग सिस्टम और हार्डवेयर से संबंधित डेटा केवल विंडोज रजिस्ट्री में भी स्थापित किया गया है।

error: Content is protected