राष्ट्रीय ध्वज पर लघु निबंध (Short Essay on National Flag of India in Hindi)

प्रस्तावना

राष्ट्रीय ध्वज वह चीज होती है, जो देश के मान और सम्मान का प्रतीक होती है। राष्ट्रीय ध्वज एक देश की पहचान होती है।

अपने भारत देश का राष्ट्रीय ध्वज तीन रंगों से बना हुआ है। इसलिए अपने भारत देश के ध्वज को तिरंगा के नाम से भी जाना जाता है।

तिरंगे के तीन रंग

भारत देश के राष्ट्रीय ध्वज का निर्माण तीन रंगों से हुआ है। जिसमे केसरिया, सफेद और हरा रंग शामिल है। राष्ट्रीय ध्वज में शामिल इन तीन रंगों की भी अलग अलग पहचान है।

जैसे की, केसरिया रंग उत्तेजना और साहस का प्रतीक है। सफेद रंग शांति का प्रतीक है और हरा रंग गौरव, सम्मान और पवित्रता का प्रतीक है।

अशोक चक्र

हमारे राष्ट्रीय ध्वज के बीच में एक नीले रंग चक्र होता है। जिसे हम अशोक चक्र कहते है। कहा जाता है की, इसका चक्र का निर्माण सम्राट अशोक ने किया था।

इसलिए इस चक्र का नाम अशोक चक्र रखा गया है। इस गहरे नीले रंग के अशोक चक्र में चौबीस भुजाएँ होती है। यह अशोक चक्र को हमारे धर्म की स्वतंत्रता का प्रतीक माना जाता है।

ध्वज समारोह

हमारे भारत देश में स्वतंत्र दिवस और गणतंत्र दिवस के अवसर पर ध्वज समारोह का कार्यक्रम किया जाता है।

इन दोनों राष्ट्रीय त्योहारों के अवसर पर प्रधानमंत्री द्वारा ध्वज फहराया जाता है और इक्कीस तोपों की सलामी दी जाती हैं।

निष्कर्ष

राष्ट्रीय ध्वज के साथ देश का मान-सम्मान, देश की संस्कृति और देश का अभिमान जुड़ा हुआ होता है, इसलिए हमे अपने देश के राष्ट्रीय ध्वज का सम्मान करना चाहिए।

error: Content is protected