बाढ़ का एक दृश्य पर लघु निबंध (Short Essay on Badh ka Ek Drishya in Hindi)

प्रस्तावना

हमारी धरती पर हर दिन कई ना कई प्राकृतिक आपदाएँ होती रहती है। जिससे हमे काफी ज्यादा नुकसान होता है। इन प्राकृतिक आपदाओं में प्रकृति से बनी हुई कई सारी आपदाएँ शामिल होती है।

जिनमे कुछ प्राकृतिक आपदाएँ ऐसी होती है, जो हमारे लिए बहुत जयद नुकसानदायक होती है। बाढ़ भी उन नुकसानदायक प्राकृतिक आपदाओं में से एक है।

जिससे हमे कई सारे समस्याओं का सामना करना पड़ता है। जिसमे जीवितहानी और आर्थिक हानी दोनों शामिल है।

बाढ़ कब आती है?

बाढ़ जैसे प्राकृतिक आपदा हमे बारिश के मौसम में देखने को मिलती है। इस मौसम में जब बारिश बहुत ज्यादा मात्रा में होती है, तब बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदा का निर्माण होता है।

बाढ़ कहा आती है?

जिस क्षेत्र में बारिश ज्यादा होती है, उस क्षेत्र में अगर नदी-नाले होंगे, तो उन नदी नालों के पानी का स्थर बढ़ने लगता है।

जिस कारण उस क्षेत्र में बाढ़ आने की संभावना बहुत ज्यादा रहती है। यह समस्या ज्यादातर नदी नालों के आसपास वाले क्षेत्रों में सबसे ज्यादा होती है।

बाढ़ का दृश्य

बारिश के मौसम में जब भी बाढ़ जैसी समस्या आती है, तब भारी मात्रा में हमारा नुकसान होता है। क्योंकि जब भी बाढ़ आती है, तब नदी नालों के पानी का स्थर बढ़ने लगता है और बाद में वह बाढ़ का पानी उस क्षेत्र में आता है, जहा हम रहते है।

जब यह बाढ़ हमारे क्षेत्र में आती है, तब हमे एक भयंकर दृश्य देखने को मिलता है। जहा कुछ लोगों के घर इस बाढ़ में बह जाते है और उनका आर्थिक नुकसान हो जाता है, तो कुछ लोगों की इस बाढ़ में डूबने के कारण मृत्यु भी हो जाती है।

इसी के साथ पेड़ पौधों को भी इससे नुकसान होता है और उस क्षेत्र में रहने वाले जानवरों को भी इस बाढ़ की वजह से अपनी जान गवानी पड़ती है। इस तरह उस क्षेत्र के बाढ़ के दृश्य में सभी जगह पर सिर्फ और सिर्फ नुकसान ही देखने को मिलता है।

error: Content is protected