बाघ बचाओ पर निबंध (Save Tiger essay in Hindi)

आज के समय में बाघ इस पूरी दुनिया में एक महत्वपूर्ण विषय बन गया है। क्योंकि इनका महत्वपूर्ण विषय बनने का कारण है इनकी दिन प्रति दिन तेज़ी से घटती हुई आबादी।

जिसमे भारत जैसा देश पूरी दुनिया में सिर्फ दो तिहाई जंगली बाघों का घर है। इसलिए सरकार को उनकी कम होती संख्या ने जागृत करने और निरीक्षण करने के लिए प्रेरित किया है।

इसलिए सरकार बाघों को संरक्षित करने के लिए कई सारी परियोजनाएं बना रही है। जिससे उनकी आबादी फिरसे पहले जैसी बढ़ने लगे।

किन देशों में बाघ पाए जाते है?

भारत के अलावा पूरी दुनिया में ऐसे कई सारे देश है जहा बाघ पाए जाते है। जैसे की म्यांमार, नेपाल, मलेशिया, कंबोडिया, थाईलैंड, बांग्लादेश, लाओस।

इंडोनेशिया, रूस, वियतनाम, भूटान और चीन आदि। इन सभी देशो में अपने भारत देश के अलावा बाघ पाए जाते है।

बाघों को बचाने पर ध्यान केंद्रित करना

हमें बाघों के घटती आबादी पर ध्यान केंद्रित करने के लिए सबसे पहले लोगों में मन में जागरूकता पैदा करनी होगी। जिससे लोग बाघों को संरक्षित करने पर ध्यान केंद्रित कर सकते है।

इस विषय को और ज्यादा गंभीर बनाने के लिए हम पत्रक, विज्ञापन, इंटरनेट वेबसाइटों पर विज्ञापन बनाकर बाघों को बचाने लोगों का ध्यान और ज्यादा बढ़ा सकते हैं।

क्योंकि इस दुनिया में किसी भी काम को पूरा करने के लिए सबसे पहले उसपर ध्यान केंद्रित करना जरुरी होता है। इसलिए बाघों को बचाने के विषय के लिए ध्यान का विकास बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है।

अवैध शिकार

बाघों को संरक्षित करने के लिए हमें सभी लोगों का ध्यान केंद्रित करने के बाद बाघों की हो रही अवैध शिकार को रोकना होगा। जिसके लिए सरकार ने भी बाघ की त्वचा और शरीर की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है, लेकिन फिर भी बाघों की अवैध शिकार आज भी प्रचलित है।

इसलिए ऐसे गैरकानूनी कार्य को रोकना बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए जब हम लोग इनका अवैध शिकार करना रोक देंगे, तो निश्चित रूप से बाजार में मिल रहा बाघों के चमड़ी से बना हुआ सामान, जूते और कई सारे उत्पादों की खरीदारी रुक जाएगी।

जंगलों की रक्षा

आज के समय में बाघों की तेज़ी से घटती आबादी का कारण जंगलों की कटाई है। क्योंकि हर जंगली जानवर का घर जंगल ही होता है। आज हम इंसान अपने फायदे के लिए जो जंगलों की कटाई कर रहे है, उसका फ़ायदा तो हमें हो रहा है।

लेकिन इसका नुकसान हमसे ज्यादा जंगली जानवरों को होता है। इसलिए आज बाघों के पास खुदको विकसित करने के लिए और भोजन के लिए उचित पारिस्थितिकी तंत्र नहीं है। इसलिए जंगलों की रक्षा करना बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है।

जलवायु परिवर्तन

आज के समय में तेज़ी से बढ़ते हुए जलवायु परिवर्तन की वजह से साल 2070 तक समुद्र-स्तर लगभग एक फुट बढ़ जाएगा, जो पूरे सुंदरबन बाघों के आवास को नष्ट कर सकता है।

सुंदरवन एक बड़ा मैंग्रोव वन क्षेत्र है और यह दुनिया का एकमात्र तटीय मैंग्रोव टाइगर आवास भी है। जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र के बढ़ते जल स्तर से इन जंगलों और बाघ की आबादी के अंतिम शेष निवास स्थान को नष्ट करने का खतरा है।

इको यात्रा

इको यात्रा बाघों के संरक्षण के आपके प्रयास की दिशा में एक और चरण है। इस तरह की एक यात्रा पर जाने से, आप लोगों को बाघों और जंगलों की विशेष स्थिति के बारे में सूचित कर पाएंगे। इसी सकारात्मक बदलाव के कारण हम लोगों को प्रभावी कदम उठाने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

निष्कर्ष

टाइगर को बचाना न केवल हमारा कर्तव्य है, बल्कि हमारी जिम्मेदारी भी है। इसलिए बाघों के संरक्षण के लिए सरकार ने बनाये हुए कई सारे परियोजनाओं का हमें समर्थन करना है ताकि बाघों की आबादी सुरक्षित रह सके। क्योंकि हमें पता होना चाहिए कि, जब हम प्रकृति से कुछ मांगते हैं, तो हमें कुछ वापस देने के लिए भी तैयार होना चाहिए। इसलिए अगर प्रकृति हमारे अस्तित्व के लिए जिम्मेदार है, तो हमें भी इसके अस्तित्व की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: