Programming क्या है और इसके प्रकार (programing kya hai hindi)

निसंदेह, लोग बातचीत या I.E भाषा का इस्तेमाल एक दूसरे से जुड़ने के मकसद से करते हैं। एक दूसरे से बात करने के लिए भाषा का प्रयोग करते हैं जैसे कि आपको कुछ काम करना या किसी से बात करनी होगी, तो आप अपनी भाषा के माध्यम से ही संपर्क करते हैं।

जब आप इसे बंद करने पर क्लिक करते हैं, तो इसका मतलब की आप “कंप्यूटर को निर्देश देते हैं” और प्रोग्रामिंग भाषा का इसके इस्तेमाल इस आदेश या कंप्यूटर के कमांड में लिखने के कार्य में किया जाता है।

इसी प्रकार, कंप्यूटर की अपनी भाषा भी होती है जिसकी सहायता से हम कंप्यूटर भाषा का नाम देते हैं। यह एक प्रकार की कंप्यूटर भाषा है। इस भाषा का उपयोग सॉफ्टवेयर और प्रोग्राम लिखने के रूप में किया जाता है।

जिस प्रकार भाषा हमारी मानव भाषा में व्याकरण की तरह है। प्रोग्रामिंग भाषा लिखते समय, व्याकरण केवल सिंटेक्टिक नियमों के मुताबिक ही लिखा जाता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि, प्रोग्रामर इसे लिखने और इसे आसानी से लिखने के लिए कई टूल या विधियों को इस्तेमाल करते हैं जैसे प्रवाह आरेख, एल्गोरिदम और छद्म कोड।

प्रोग्रामिंग भाषा का प्रकार

कंप्यूटर और मनुष्यों के अधिक, प्रोग्रामिंग भाषाओं को विशेष रूप से 2 भागों में बांटा गया है:

  • निम्न स्तरीय कार्यक्रम भाषा (मशीन भाषा)

यह भाषा काफी सरलता से कंप्यूटर को समझ सकती है या बोल सकती है। इस मशीन को कंप्यूटर या सभी प्रोग्रामों को समझने के लिए समझा जा सकता है कि, यह कंप्यूटर को सीधे समझता है।

इस भाषा की 2 श्रेणियाँ हैं:

  1. मशीनरी भाषा
  2. असेंबली भाषा

मशीनरी भाषा

इस भाषा में लिखे गए सभी कंप्यूटर निर्देश सीधे तरीके से कार्य करते हैं। इसे बाइनरी भाषा भी कहते है। भिन्न प्रकार के कार्यक्रम या निर्देश या निर्देशों के कारण मशीन भाषा में लिखे गए हैं, वे सभी 0 और 1 में लिखे गए हैं। इसी वजह से हम इसे एक बाइनरी भाषा भी कहते है।

असेंबली भाषा

केवल इस भाषा में फर्क यह है कि, कुछ छोटे शब्दों का इस्तेमाल 0 और 1 के अलावा किया जाता है, जैसे कि ADD, SUB, MUL, DIV। जो लोग MNEMONICS को इस्तेमाल में लाते हुए MNEMONICS कहते हैं, ये भाषाएं हमें समझने लगती हैं क्योंकि उनका उपयोग अंग्रेजी शब्दों में नहीं किया जाता है, 0 और 1 नहीं।

  • उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाएं

उच्च स्तरीय भाषाओं की बात करते हुए अर्थ ये निकलता है कि, हम बहुत ही सरलता से लोगों को समझ सकते हैं। परंतु यह आसानी से कंप्यूटर को समझने व जानने में सक्षम नही है। अंग्रेजी में एक लिखित कार्यक्रम यहां लिखा गया है।

यह भाषा पर पूरी तरह से केंद्रित होता है। कोई भी इसे आसानी से समझ सकता है और सिखा भी सकता है। इस भाषा कार्यक्रम में बहुत ही कम गलतियाँ हैं। इस भाषा का इस्तेमाल सी, सी ++, जावा,  जैसे कई प्रकार के सॉफ़्टवेयर को बनाने के लिए किया जाता है।

इसमें लिखे गए सभी कार्यक्रम आसानी से परिवर्तन कर सकते हैं और बनाए रख सकते हैं। एचएलएल का इस्तेमाल सॉफ़्टवेयर के कई भिन्न कंपनियों में किया जाता है। निर्देश या कार्यक्रम लिखने के मकसद से इसे काफी आसान मान लिया गया है।

एचएलएल पर लिखना आसान है। इस बात से हम भली-भाँति ज्ञात हैं कि कंप्यूटर में 0 और 1 को समझने के लिए दो नंबर हैं। यही वजह है कि एचएलएल में लिखे गए कार्यक्रम को अनुवादकों की मदद से बाइनरी अथवा मशीन में बदल दिया जाता है।

error: Content is protected