Make in India

माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 25 सितंबर 2014 को देश की अर्थव्यवस्था और विकास के क्षेत्र में भारत की पहचान के लिए “मेक इन इंडिया” अभियान शुरू किया गया था। इस अभियान का प्रतीक कई यांत्रिक पहियों वाला एक शेर है। इन पहियों की मदद से चलते हुए यह शेर दृढ़ता और बुद्धिमत्ता प्रदर्शित करता है।

मेक इन इंडिया अभियान का उद्देश्य भारत में नई तकनीकों के विकास को बढ़ावा देना और भारत में बने उत्पादों को बढ़ावा देना है। मेक इन इंडिया अभियान का सबसे बड़ा सिद्धांत विदेशी कंपनियों को भारत में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करना और उन्हें भारत में उत्पाद बनाने के लिए प्रोत्साहित करना है।

मेक इन इंडिया अभियान से देश में कई वस्तुओं के उत्पादन में मदद मिलेगी, साथ ही रोजगार की अभूतपूर्व क्षमता के साथ देश में संपत्ति का स्तर भी बहुत कम हो जाएगा। निवेश के लिए 25 क्षेत्रों का चयन किया गया है, जिसके तहत राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय निवेशकों को निवेश करना होगा।

देश में रोजगार के अवसर कम होने के कारण देश में बेरोजगारी की समस्या बढ़ी है। साथ ही, व्यापार और निवेश की जटिलता के कारण, देश के बड़े निवेशकों और व्यापारियों को भी देश छोड़ने के लिए मजबूर किया गया है। ऐसे में मेक इन इंडिया अभियान एक मील का पत्थर साबित हुआ है।

किसी भी देश में बढ़ता उत्पादन उसकी आर्थिक समृद्धि का प्रतीक है। यदि, इसके द्वारा, देश निर्यात बढ़ाने में भी सक्षम हो जाता है, तो यह उस देश की अर्थव्यवस्था के लिए सबसे खुशी का स्थान होगा। मेक इन इंडिया अभियान इसी से प्रेरित है। अगर देश में निवेश आता है, तो देश में नए कारखाने खुलेंगे, लोगों को रोजगार मिलेगा, उत्पादन बढ़ेगा, सस्ती वस्तुएं उपलब्ध होंगी और साथ ही साथ भारत एक प्रमुख निर्यातक देश के रूप में उभरेगा।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: