मोटोरकार का आविष्कार किसने किया? (History of Car In Hindi)

कार का इतिहास बहुत पुराना है। कार को मोटरवाहन, मोटरकार या गाड़ी भी कहते है। ये चार पहियोवाला वाहन है। जो इंजन पे चलता है और यात्रियों को परिवहन करने मे काम आता है। ये मोटरवाहन सड़को पे चलाने के लिए बनाया गया है जो यात्रियों को एक जगह से दूसरी जगह बहुत ही कम वक़्त में उनकी मंजिल तक ले के जाता है।

जहा यात्रियों को उनकी मंजिल तक बहुत देर तक चलके जाना पड़ता था जिससे उनका काम नहीं हो पाता था वही मोटरवाहन के वजह से कुछ ही वक़्त में पोहोच जाते है और उनका काम वक़्त पर हो जाता है। बहुत पुराने समय में मतलब राजा -महाराजाओंके जमानेमे ये मोटरवाहन नामक  कोई वाहन नहीं था।

तब यात्रियोंका परिवहन घोडों के ऊपर बैठके , हाथी पर बैठके या बैलगाड़ी पर, या फिर घोड़ागाड़ी पर सवार होके होता था। तब लोगोंको एक जगह से दूसरी जगह जानेमे कही घंटे या कही दिन लगते थे। वही आज के समय में मोटरवाहन लोगोंको उनके मंजिल तक कुछ ही पल पे पोहोचा देता है। इनमे कही प्रकार है। जैसे की चार पहियोंवाली गाड़ी जिसे हम मोटरकार भी कहते है। इसमें चार से पांच लोग आराम से बैठ सकते है।

कार्ल बेंज:

[su_quote]कार्ल बेंज जिन्होंने जर्मनी के मैनहैम शहर में १८८५ में अपनी चार स्ट्रोक साइकिल गैसोलीन एनगिने द्वारा संचालित एक वाहन बनाया जिसे अगले ही साल जनवरी में पेटेंट दिया गया और उसके प्रमुख कंपनी, Benz & Cie के तत्वावधान में, जिसकी स्थापना 1883 में हुई थी।[/su_quote]

यह एक इंटीग्रल डिज़ाइन था जिसमे किसी भी मौजूदा घटकों का प्रयोग करे बिना नए प्रौद्योगिकीय तत्वों का इस्तमाल किया गया नई अवधारणा बनने के लिए। यही अवधारणा को पेटेंट योग्य बनाया। उसके बाद १८८८ में उन्होंने अपने उत्पादन किये हुए वाहनों को बेचना शुरू किया था। 1879 मे बेन्ज़ को उसकी पहली इंजन के लए पटेंट दिया गया, जिसको उसने 1878 मे डिजाईन किया था। उसके अन्य कई आविष्कारों मे भी आंतरिक दहन इंजन के इस्तेमाल को सम्भव बनाया।

३ जुलाई 1886 में बेन्ज़ ने अपने वाहन का प्रचार शुरू किया और लगभग 25 बेन्ज़ के वाहन की विक्री 1888 और 1893 के बिच, इसी समय उनकी पहली चौपहिया गाड़ी आई जो एक सहूलियत वाहन के रूप में दर्शायी गई .वे भी अपने ही चार स्ट्रोक इंजन डिजाईन के द्वारा संचलित थे। फ़्रांस के एमिले रॉजर, जो पहले से ही लाइसेंस के तहत बेंज इंजनों का निर्माण करते थे, अब बेन्ज़ ऑटोमोबाइल को अपने प्रोडक्ट लाइन में शामिल कर लिया, क्योंकि फ्रांस प्रारंभिक ऑटोमोबाइल के लिए अधिक खुला था, इसी लिए रॉजर फ्रांस में ज्यादा बनता और बेचता था।

बेन्ज़ ने 1896 में पहला आंतरिक-दहन फ्लैट इंजन का डिजाईन किया था और पेटेंट कराया था जिसे जर्मन में बोक्सेर्मोटर बुलाया गया। उन्नीसवीं सदी के अंतिम वर्षों के दौरान, बेंज दुनिया कि सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी बन गयी थी। जिसने साल 1899 में 572 वाहन का उत्पादन किया और इसी बड़ते उत्पादन के कारण ,Benz & Cie एक सयुंक्त – स्टॉक कंपनी बनी।

error: Content is protected