विकलांग पर निबंध (Essay on Viklang in Hindi)

प्रस्तावना

विकलांक लोग वो लोग होते है, जिनमे स्मृति, अंगों, इंद्रियों, शरीर आदि के कार्य में कमी होती है। समाज में रहने वाले लोग हमेशा इन्हे कमजोर समजने की भूल करते है।

परंतु वह लोग अपनी शारीरिक कमजोरी के कारण भले ही विकलांक होते है, लेकिन फिर भी वह अपने आप में खास होते है।

वे भले ही शरीर से कमजोर होते है, लेकिन उन्हे भगवान ने कुछ ऐसी विशेष शक्तियां दी है, जिससे वह अपनी विकलांगता के बावजूद भी एक अच्छी जिंदगी जी सकते है।

विकलांक लोगों की स्थिति

अपने समाज में रहने वाले विकलांक लोगों को अपनी किसी भी सहानुभूति की जरूरत नहीं है, बल्कि उन्हे हमसे प्यार, विश्वास और स्वीकार्यता चाहिए। लेकिन अपने समाज में उन लोगों को इसलिए अलग किया जाता है, क्योंकि वो विकलांक लोग होते है, जो बिल्कुल भी सही नहीं है।

बल्कि लोगों को ऐसे विकलांक लोगों को स्वीकार करना चाहिए, उनसे दोस्ती करनी चाहिए, उन्हे अपने समाज में एक विशेष व्यक्ति के रूप में स्वीकार करना चाहिएं। लेकिन आज भी अपने समाज में ऐसे लोगों को एक अलग नजारिएं से देखते है।

जहा उनको एक कमजोर व्यक्ति के रूप में ही देखा जाता है, जो बहुत ज्यादा गलत है। वो लोग भी हम लोगों की तरह एक इंसान ही है, जिनके नसों में हमारी तरह ही खून बहता है। वह भी हमारी तरह ही खाना कहते है और पानी पीते है। फिर भी उनके साथ इतना दुर्व्यवहार क्यू किया जाता है?

विकलांगता कैसे होती है?

अपने समाज में रहने वाले कई लोग विकलांगता का शिकार होते है। जहा कुछ लोगों को विकलांगता जन्म से हो सकती है और कुछ लोगों को किसी दुर्घटना या चिकित्सा स्थिति के कारण विकलांगता का शिकार होना पड़ता है।

विकलांगता का इलाज

आज के आधुनिक युग में विज्ञान का बहुत ज्यादा विकास हुआ है। इसलिए उसके पास हर चीज का इलाज होता है। जिसमे विकलांगता का इलाज भी शामिल है।

लेकिन यह इलाज बहुत ज्यादा महंगे होते है। इसलिए उनका लाभ सिर्फ अमीर लोग ही उठा सकते है। लेकिन यह गरीब लोगों के बस की बात नहीं है। ऐसे इलाज बड़े बड़े अस्पतालों में ही पाएं जाते है। जहा पर इलाज करना एक साधारण व्यक्ति की बात नहीं होती है।

निष्कर्ष

इस दुनिया में विकलांग लोगों के ऐसे कई सारे उदाहरण है, जिन्होंने अपनी विकलांगता के बावजूद भी अपने जीवन में सफलता हासिल की है।इसलिए आपको अगर उनकी मदत करनी ही है, तो उन्हे किसी भी तरह की सहानुभूति देने के बजाएं उनका समर्थन करना चाहिएं। यही उनके लिए एक बहुत बड़ी मदत हो सकती है।


error: Content is protected