प्रौद्योगिकी पर निबंध हिंदी में (Essay on Technology in Hindi)

विशेषज्ञ इस विषय पर वर्षों से बहस कर रहे हैं। इसके अलावा, प्रौद्योगिकी ने मानव जीवन को आसान बनाने के लिए एक लंबा रास्ता तय किया लेकिन इसके नकारात्मक पहलू को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।

पिछले कुछ वर्षों में तकनीकी प्रगति के कारण प्रदूषण में भारी वृद्धि हुई है। साथ ही, प्रदूषण कई स्वास्थ्य मुद्दों का एक प्रमुख कारण बन गया है। इसके अलावा, इसने समाज के लोगों को जोड़ने के बजाय उन्हें दूर कर दिया है। इन सबसे ऊपर, इसने श्रमिक वर्ग से कई नौकरियां छीन ली हैं।

जैसा कि वे पूरी तरह से अलग क्षेत्र हैं, लेकिन वे एक दूसरे पर निर्भर हैं। इसके अलावा, यह विज्ञान योगदान के कारण है कि हम नए नवाचार बना सकते हैं और नए तकनीकी उपकरणों का निर्माण कर सकते हैं। इसके अलावा, प्रयोगशालाओं में किए गए शोध प्रौद्योगिकियों के विकास में बहुत योगदान करते हैं। दूसरी ओर, प्रौद्योगिकी विज्ञान के एजेंडे का विस्तार करती है।

हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा

नियमित रूप से विकसित होती तकनीक हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गई है। इसके अलावा, नई प्रौद्योगिकियां तूफान से बाजार ले जा रही हैं और लोगों को कुछ ही समय में उनकी आदत पड़ रही है। इन सबसे ऊपर, तकनीकी प्रगति ने राष्ट्रों के विकास और विकास को प्रेरित किया है।

प्रौद्योगिकी के नकारात्मक पहलू

हालाँकि तकनीक एक अच्छी चीज है, लेकिन हर चीज के दो पहलू होते हैं। टेक्नोलॉजी के भी दो पहलू होते हैं एक अच्छा और दूसरा बुरा। यहाँ प्रौद्योगिकी के कुछ नकारात्मक पहलू हैं जिनके बारे में हम चर्चा करने जा रहे हैं।

प्रदूषण

नई तकनीक से औद्योगीकरण बढ़ता है जो हवा, पानी, मिट्टी और शोर जैसे कई प्रदूषणों को जन्म देता है। इसके अलावा, वे जानवरों, पक्षियों और मनुष्यों में कई स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों का कारण बनते हैं:

प्राकृतिक संसाधनों की थकावट

नई तकनीक के लिए नए संसाधनों की आवश्यकता होती है, जिसके लिए संतुलन गड़बड़ा जाता है। आखिरकार, इससे प्राकृतिक संसाधनों का अत्यधिक दोहन होगा जो अंततः प्रकृति के संतुलन को बिगाड़ता है।

बेरोजगारी

एक मशीन कई श्रमिकों को बदल सकती है। इसके अलावा, मशीनें बिना रुके कई घंटों या दिनों तक लगातार गति से काम कर सकती हैं। इसके कारण, कई श्रमिकों ने अपनी नौकरी खो दी जो अंततः बेरोजगारी बढ़ाती है।

प्रौद्योगिकी के प्रकार

आमतौर पर, हम प्रौद्योगिकी को उसी पैमाने पर आंकते हैं लेकिन वास्तव में, प्रौद्योगिकी को विभिन्न प्रकारों में विभाजित किया जाता है। इसमें सूचना प्रौद्योगिकी, औद्योगिक प्रौद्योगिकी, वास्तुकला प्रौद्योगिकी, रचनात्मक प्रौद्योगिकी और कई और अधिक शामिल हैं। आइए इन तकनीकों पर संक्षेप में चर्चा करें।

औद्योगिक प्रौद्योगिकी

यह तकनीक मशीनों के निर्माण के लिए इंजीनियरिंग और विनिर्माण प्रौद्योगिकी का आयोजन करती है। साथ ही, यह उत्पादन प्रक्रिया को आसान और सुविधाजनक बनाता है।

क्रिएटिव टेक्नोलॉजी

इस प्रक्रिया में कला, विज्ञापन और उत्पाद डिजाइन शामिल हैं जो सॉफ्टवेयर की मदद से बनाए जाते हैं। इसके अलावा, इसमें 3 डी प्रिंटर, वर्चुअल रियलिटी, कंप्यूटर ग्राफिक्स और अन्य पहनने योग्य तकनीक शामिल हैं।

सूचान प्रौद्योगिकी

इस तकनीक में सूचना भेजने, प्राप्त करने और संग्रहीत करने के लिए दूरसंचार और कंप्यूटर का उपयोग शामिल है। इंटरनेट सूचना प्रौद्योगिकी का सबसे अच्छा उदाहरण है।

आज, हम अपने दैनिक जीवन में जो कुछ भी उपयोग करते हैं वह प्रौद्योगिकी का एक उपहार है और जिसके बिना हम अपने जीवन की कल्पना नहीं कर सकते हैं। इसके अलावा, हम उन तथ्यों से इनकार नहीं कर सकते हैं कि इसने हमारे परिवेश को गंभीर नुकसान पहुंचाया है।

कंप्यूटर पर निबंध Click Here 
मोबाइल फोन पर निबंध
Click Here (1), Click here (2)
इंटरनेट पर निबंध
Click Here
समाचार पत्र पर निबंध 
Click Here (1), Click here (2)
विज्ञान पर निबंध
Click Here (1), Click Here (2)

सभी प्रकार के हिंदी निबंध यहाँ पर देखे: Click Here

One thought on “प्रौद्योगिकी पर निबंध हिंदी में (Essay on Technology in Hindi)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: