बेहतर पर्यावरण के लिए ईंधन बचाने पर निबंध (Essay on saving fuel for better environment in Hindi)

प्रस्तावना

आजकल के तेजी से बढ़ रही आबादी की समय में अंधाधुंध हो रहे शहरीकरण की वजह से गांव वाले जगहों पर बढ़ते प्रदूषण से क्वार्टर संस्कृतकाल में परिवार पर वातावरण की सुरक्षा की जिम्मेदारी काफी महत्वपूर्ण बन गयी है।

एक अच्छी सी जिंदगी जीने के लिए किचन से शौचालय तक स्वच्छता बहुत महत्वपूर्ण ज़रूरत बनी हुई है। जिसका कारण यह है कि, गैस से उत्पन हुई धुंआ खानपान के कचरे के अच्छे जगह पर बिना किसी मिलावट के वातावरण के लिए हानिकारक सिद्ध हो गए हैं।

जब नूतन संस्कृत का  दौर था तब आवासीय स्थिति में हो रहे बदलाव की वजह से पर्यावरण सुरक्षा की अनेक तरह की जरुरत है। जिस जिस गांव में पहले से ही मुख्य व स्थापित प्राथमिक विद्यालय हैं, उसमे काम करने वाले लोग अपने ही गांव और घरों को छोड़ कर स्थानांतरित हुए है।

जीवाश्म ईंधन क्या है?

जीवाश्म ईंधन को वह ईंधन कहते हैं, जिसका उपयोग मनुष्य अपनी ज़रूरतों के लिए करते हैं। जीवाश्म ईंधन पशु पक्षियों व पौधों के विनाश हो गए अवशेषों और जीवाश्मों से मिलकर बना और उत्पन हुआ है।

जो धरती की सतह के नीचे बहुत गहराई में कैद व दफन हैं। यह ईंधन बहुत सारी पर्यावरणीय दबाव और गर्मी के कारण उत्पन होता है ।

ईंधन की बचत से तात्पर्य अपने पर्यावरण को बचाना

औद्योगिकीकरण से हुए कई सारे बदलावों के कारण पारिस्थितिकी तंत्र को बहुत ही घातक तरीके से नुकसान पहुंचाया है। नई मशीन समाज के लिए एक समृद्धि का महत्वपूर्ण कारण बन गए हैं। आमतौर पर मनुष्य  प्रतिदिन बहुत ज़्यादा मात्रा में ईंधन का इस्तेमाल करते हैं।

हालांकि, काफी लंबे समय से, कोई बहुत बड़ी तस्वीर देखने को नहीं मिल रही क्योंकि इसकी वजह से पर्यावरण पर काफी प्रभाव देखने को मिल रहा है। इन्ही कारणों से हमें  अपने पर्यावरण को सुरक्षित करने के लिए अत्यधिक विकास को ग़ौर करना पड़ रहा है। सड़कों पर चल रहे वाहनों से जो ईंधन निकल रहा है।

वह काफी घातक और हानिकारक गैसों से सम्पूर्ण वातावरण को बुरी तरह से प्रभावित किये हुए हैं और ओजोन रिक्तीकरण, ग्लोबल वार्मिंग औए ऐसे कई कारणों की वजह से धरती विषैली बनी है। जिस तरह से ओज़ोन परत मविन कमी होती जा रही है, ये ग्रीनहाउस गैसों की मात्रा बढ़ाती जा रही है। जिस कारण पृथ्वी की गहराई से तापमान तेजी से बढ़ रहा हैं।

एक अच्छी और शुद्ध पर्यावरण के लिए ईंधन बचाने के तरीके

जिस तरह से हम देख पा रहे हैं, हमारी धरती के लिए कोई मनुष्य को थोड़ा सा भी सम्मान नहीं है। मनुष्य इसके प्रभावों के बारे में सोचे बग़ैर हमारे प्राकृतिक संसाधनों छति पहुंचाते हैं।

खाद अथवा पेय वाले चीजों को बनाने के अलावा उन चीजों को अग्नि में गर्म करने से बहुत ही ज्यादा मात्रा में ईंधन का इस्तेमाल हो रहा है अथवा इन्ही सब कारणों की वजह से मनुष्य बर्तन खोलते वक़्त खाना बनाते हैं।

इसके अलावा, हम बिजली के उपकरणों पर स्विच करके इस उपयोग को कम कर सकते हैं। ज़्यादा से ज़्यादा हम एक, अच्छी गुणवत्ता के तार को भी इस्तेमाल में ला सकते हैं, जिससे बिजली बचती है।

  कोरोना वायरस पर आधारित निबंध विषय: Click Here  
error: Content is protected