प्लास्टिक प्रदूषण पर निबंध हिंदी में (Essay on plastic pollution in hindi)

प्रस्तावना

हमारे पारिस्थितिकी तंत्र के लिए एक बड़ा खतरा आजकल प्लास्टिक प्रदूषण है। एक अध्ययन के अनुसार, 2025 तक, हर 300 किलोग्राम मछली के लिए लगभग 100 किलोग्राम प्लास्टिक होगा।

प्लास्टिक कचरा दुनिया भर में लगभग 700 प्रजातियों को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित कर रहा है जो पारिस्थितिकी तंत्र में असंतुलन पैदा करता है और परिणामस्वरूप जैविक और रासायनिक प्रक्रियाओं को बदलता है।

प्लास्टिक प्रदूषण के प्रमुख स्रोत

प्लास्टिक के मलबे के प्रमुख स्रोतों में भूमि आधारित स्रोत शामिल हैं जिनमें सीवेज अपशिष्ट, प्लास्टिक निर्माता, लैंडफिल और बहुत कुछ शामिल हैं। इसलिए, यह समझने की आवश्यकता है कि कैसे अनियंत्रित अपशिष्ट और प्लास्टिक का उपयोग हमारे जीवन को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर रहा है।

पारिस्थितिकी तंत्र को प्रदूषित

प्लास्टिक का उपयोग भूमि पारिस्थितिकी तंत्र को भी प्रदूषित कर रहा है। जब बड़ी मात्रा में प्लास्टिक को लैंडफिल में डंप किया जाता है, तो यह मिट्टी की बनावट और गुणवत्ता को नष्ट कर देता है जो इसे बांझ बना देता है।

इसके साथ ही, कीटों को ले जाने वाले कई रोग उस क्षेत्र में जमा हो जाते हैं जहाँ प्लास्टिक को फेंक दिया जाता है जिससे मानव जाति को गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं।

समुद्री जीवन पर दुष्प्रभाव

हम अपने स्वास्थ्य और पर्यावरण पर इसके दुष्प्रभाव के बारे में जानने के बावजूद प्लास्टिक का उपयोग करते हैं। समुद्री जीवन समुद्र में प्लास्टिक के निपटान के गंभीर परिणामों का सामना कर रहा है क्योंकि कई मछलियां प्लास्टिक को निगलती हैं जो अंतर्ग्रहण का कारण बनती हैं और उनमें से कई के लिए घातक साबित होती हैं।

पुन: उपयोग

हमें प्लास्टिक के बजाय कपड़े के थैले और कागज के थैलों का उपयोग करना शुरू करना चाहिए और किसी भी मामले में अगर हम प्लास्टिक का उपयोग कर रहे हैं, तो हमें इसे फेंकने और प्रदूषण पैदा करने के बजाय इसका पुन: उपयोग और पुनर्चक्रण करने के तरीके खोजने होंगे।

प्लास्टिक के उपयोग से निपटने के कई अन्य तरीके हैं, बस यह है कि हमें एक साथ एकजुट होने और इसके उपयोग को कम करने की आवश्यकता है।

सरकार ने इस पर प्रतिबंध लगाकर और कागज़ की थैलियों को बढ़ावा देकर प्लास्टिक के उपयोग को कम करने के कई प्रयास किए हैं। जिसमे हमे सरकार का साथ देना होगा।

निष्कर्ष

हम अच्छी तरह से जानते हैं, कि कैसे प्लास्टिक पृथ्वी पर हमारे जीवन को पूरी तरह से खराब कर रहा है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि इस घातक प्रदूषण को रोकने के लिए हमें कुछ योगदान देना चाहिए।

  • महिला सशक्तिकरण पर निबंध: Click Here
  कोरोना वायरस पर आधारित निबंध विषय: Click Here  
error: Content is protected