प्लास्टिक पर प्रतिबंध इसपर निबंध हिंदी में (Essay on Plastic Ban in Hindi)

प्रस्तावना

प्लास्टिक की चीज़े हमारे धरती के पर्यावरण में फ़ैल रहे प्रदुषण के मुख्य कारणों में से एक है। प्लास्टिक का कोई भी पदार्थ गैर-बायोडिग्रेडेबल होता है। इसलिए उसको जलाने के बावजूद भी वो पूरी तरह से नष्ट नहीं होता है।

इसी वजह से प्लास्टिक की चीज़े अपने पर्यावरण को सैकड़ों वर्षों तक प्रदूषित करती रहती हैं। इससे पहले कि प्लास्टिक हमारे धरती को पूरी तरह से बर्बाद कर दें, हमें प्लास्टिक की थैलियों से लेकर सभी प्लास्टिक की चीज़ो पर प्रतिबंध लगाना बहुत आवश्यक हो गया है।

दुनिया भर के कई देशों ने या तो प्लास्टिक बैग पर प्रतिबंध लगा दिया है या लेवी टैक्स ने उस पर प्रतिबंध लगा दिया है। लेकिन फिर भी यह समस्या पूरी तरह ख़त्म नहीं हुई है, इसलिए हमें कुछ नए उपाय ढूंढने होंगे, जिससे हमारे धरती पर बढ़ रहा प्लास्टिक प्रदुषण पूरी तरह से नष्ट हो जाये।

प्लास्टिक का कचरा

प्लास्टिक और उससे फैलने वाले प्रदुषण की वजह से हमें कई सारे समस्याओं का सामना करना पड़ता है। सबसे पहले हमारे सामने प्लास्टिक के कचरे की समस्या होती है।

जिससे निपटाना सबसे बड़ी चुनौती होती है। क्योंकि प्लास्टिक गैर-बायोडिग्रेडेबल चीज़ होती है। इसलिए उसे पूरी तरह से नष्ट होने में सेकडो साल लगते है।

जिस कारण प्लास्टिक का कचरा इतने सालों तक प्रदुषण फैलाकर अपने हानिकारक प्रभाव से प्रकृति को धीरे धीरे नष्ट कर रहे हैं। जिसमे प्लास्टिक बैग आज भूमि प्रदूषण का मुख्य कारण बन गए हैं।

प्लास्टिक बैग का कचरा

प्लास्टिक बैग का कचरा आज के इस दुनिया में बढ़ रहे भूमि प्रदूषण का मुख्य कारण बन गया है और जल प्रदुषण के मामले में प्लास्टिक बैग का कचरा जल निकायों में प्रवेश करने वाले मुख्य कारणों में से एक है।

इसलिए हम लोग यह मान सकते है की, हमारी वजह से प्लास्टिक कचरे से फैलने वाले प्रदुषण से हम लोग पर्यावरण को हर संभव तरीके से खराब कर रहे हैं।

जानवरों और समुद्री जीवों के लिए हानिकारक

आज के समय में दुनिया में बढ़ रहे भूमि प्रदूषण और जल प्रदुषण के मुख्य कारणों में से प्लास्टिक कचरा है। पशु और समुद्री जीव अनजाने में अपने भोजन के साथ प्लास्टिक के कणों का सेवन करते हैं।

इसलिए बेकार प्लास्टिक की थैलियां असामयिक पशु मौतों का एक प्रमुख कारण रही हैं।

बीमारी का कारण

जब प्लास्टिक की चीज़े बनाने वाली कंपनियां प्लास्टिक बैग और ऐसे ही कई सारी प्लास्टिक की चीज़ों का उत्पादन करते है। तो उससे जहरीले रसायन निकलते हैं।

ये जहरीले रसायन हमारे कई सारे बड़ी बिमारियों का कारण है। क्योंकि इन जहरीले रसायनों की वजह से शुद्ध वातावरण पूरी तरह से प्रदूषित हो जाता है।

यह प्रदूषित वातावरण विभिन्न बीमारियों का एक प्रमुख कारण है जो हम इंसानों में बहुत आसानी से और तेज़ी से फैल रहा है।

भरा हुआ सीवेज

नालियों और सीवरों को फँसाने के लिए अपशिष्ट प्लास्टिक बैग मुख्य कारण हैं, खासकर बारिश के दौरान। इसके परिणामस्वरूप बाढ़ जैसी स्थिति हो सकती है और लोगों के सामान्य जीवन को बाधित कर सकता है।

निष्कर्ष 

प्लास्टिक का कचरा हमारे धरती पर बढ़ रहे भूमि प्रदुषण, जल प्रदुषण और वायु प्रदुषण के मुख्य कारणों में से एक है। जिसका परिणाम पुरे पर्यावरण पर हो रहा है। जिसमे इसी प्लास्टिक कचरे का हानिकारक परिणाम जानवरों और समुद्री जीवों पर हो रहा है। हम इंसानों में बढ़ रहे कई सारे बड़ी बीमारियों का कारण भी प्लास्टिक ही है। इसलिए प्लास्टिक हम सभी के लिए एक बड़ा खतरा बनता जा रहा है लेकिन फिर भी इस समस्या को हमेशा अनदेखा किया जाता है। लेकिन ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि हमारे रोजमर्रा के जीवन में प्लास्टिक से बने हुए बैग का इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है। लेकिन अब हर किसी को हमारे पर्यावरण और पृथ्वी को बचाने के लिए प्लास्टिक बैग का उपयोग पूरी तरह से बंद करना होगा। इसके लिए हमें प्लास्टिक पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाना चाहिए।

  • कोरोनावायरस पर निबंध: Click Here
  • महिला सशक्तिकरण पर निबंध: Click Here
  • सभी प्रकार के निबंध यहा देखे: Click Here
  • सभी प्रकार के निबंध यहा देखे (अंग्रेजी भाषा में): Click Here
error: Content is protected