प्लास्टिक बैग पर निबंध (Essay on Plastic Bag in Hindi)

प्रस्तावना

प्लास्टिक की थैली हमारे बहुत सारे कामों को और जरूरतों को पूरा करती है। इसलिए प्लास्टिक की थैली एक ऐसी चीज है, जो पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली चीजों में से एक है।

जिसमे हम हमेशा बाजार से कोई भी छोटी बड़ी चीज़े घर तक लाने में प्लास्टिक की थैलियों का ही उपयोग करते है। जैसे की फल, सब्जियां, कपड़े और बहुत कुछ।

इसलिए यह प्लास्टिक कि बैग हमारे जीवन का ही एक अविभाज्य घटक बन गई है। लेकिन यही प्लास्टिक की चीज़े हमारे धरती के पर्यावरण के लिए बहुत ज्यादा हानिकारक है।

प्लास्टिक प्रदूषण का प्रमुख स्रोत

प्लास्टिक बैग प्लास्टिक प्रदूषण का एक प्रमुख स्रोत होता हैं। क्योंकि वे गैर-बायोडिग्रेडेबल हैं, इसलिए उन्हें विघटित होने में कई हजारों साल लगते हैं।

तब तक इससे निकालने वाले जहरीले वायु की वजह से शुद्ध वातावरण पूरी तरह से खराब हो जाता है और यह प्लास्टिक का कचरा भूमि प्रदूषण की बढ़ती समस्या में भी योगदान करता है।

जल प्रदुषण का कारण

प्लास्टिक बैग का कचरा जल प्रदूषण का भी कारण होता है। क्योंकि लोग सड़कों, नालियों और नदियों में लापरवाही से प्लास्टिक की थैलियों को फेंकते हैं और वो प्लास्टिक की थैलियों का कचरा जल निकायों में प्रवेश करता हैं। जिस कारण जलीय जीवन को इससे बहुत ज्यादा हानी होती है।

मिट्टी को दूषित करने में योगदान

प्लास्टिक की थैलियों का मिट्टी को दूषित करने में बहुत बड़ा योगदान होता है। क्योंकि इससे पौधों के विकास में बाधा उत्पन्न होती है। वे टूटने के बाद मिट्टी में रिसते हैं और मिट्टी में बांझपन पैदा करते हैं। इसी बांझपन का दुष्परिणाम कृषि क्षेत्र को होता है।

जानवरों की मौत का कारण

प्लास्टिक की वजह से जानवरों की मौत भी होती है। क्योंकि जानवरों को हम इंसानों की तरह कचरा और अच्छे खाद्य पदार्थ में फरक समज नहीं आता है।

इसलिए उनको इस बात का कोई एहसास होता नहीं है, कि क्या खाना चाहिए और क्या नहीं? इसलिए जब वो जानवर प्लास्टिक का कचरा खाना समझकर खाते है, तब वो कचरा उनके शरीर में फंस जाता है।

इसकी वजह से आगे चलकर यह उनके शरीर में गंभीर बीमारियों का और मौत के मुंह में चले जाने का कारण बनता है।

प्लास्टिक बैग से बचने के उपाय

प्लास्टिक से फैलने वाले प्रदुषण को रोखना बहुत मुश्किल है, लेकिन अगर इसे ख़त्म करना है तो इसका उपयोग पूरी तरह से समाप्त करना होगा। क्योंकि प्लास्टिक धीरे-धीरे अपने धरती को नुकसान पहुंचा रहा है।

इसलिए सरकार ने प्लास्टिक की थैलियों के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है, लेकिन फिर भी इस प्रतिबंध के बावजूद लोग इसका उपयोग बहुत ज्यादा मात्रा में कर रहे हैं। इसलिए सरकार को इसका इस्तेमाल करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। जिसमे हम भी उनका साथ दे सकते है जैसे की, हमें दुकानदारों से प्लास्टिक बैग नहीं खरीदना चाहिए।

जिसके बदले हमें बाजार में खरीदारी के लिए कपड़े या पेपर बैग ले जाने चाहिए। अपने भोजन को प्लास्टिक के बजाय स्टील या एल्यूमीनियम के डिब्बे में पैक करने का प्रयास करें। ऐसे ही कई सारे उपाय है, जिनकी मदत से हम बढ़ते प्लास्टिक प्रदुषण को रोख सकते है।

निष्कर्ष

इस प्लास्टिक के कचरे की वजह से अपने पृथ्वी पर बहुत ज्यादा नुकसान हो रहा है। इसलिए इससे अपने धरती को पूरी तरह से मुक्त करने के लिए हमें अपने बच्चों से शुरुवात होगी। जिसमे हम अपने बच्चों को प्लास्टिक बैग के इस्तेमाल से बचने के लिए प्रोत्साहित कर सकते है। प्लास्टिक की थैलियों को कभी भी सड़कों पर न फेंके, क्योंकि जानवर इसका सेवन करने के बाद मर जाते हैं। हमें प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने के लिए और दुनिया को इससे फैलने वाले प्रदुषण से बचाने के लिए एकजुट होना चाहिए और इसे जड़ से ख़त्म करना चाहिए।

  कोरोना वायरस पर आधारित निबंध विषय: Click Here  
error: Content is protected