हमारे जीवन में दोस्तों के महत्व पर निबंध (Essay on Importance of Friends in our Life in Hindi)

हम लोग जब इस दुनिया में जन्म लेते है, उसी समय हम अपने परिवार से रक्त संबंध रिश्ता जोड़ लेते है। लेकिन मित्रता वो रिश्ता है, जिसे हम खुद चुनते है। यह रिश्ता भी बाकि सभी रिश्तों की तरह हमारे दिल के करीब होता है। दोस्ती का यही नाता आगे चलकर हमारे जीवन को बहुत ज्यादा सुंदर बनाता है। क्योंकि हम लोग बचपन से ही हमारे परिवार के साथ रहते है।

जहा अपने माता-पिता, दादा-दादी, भाई-बहन, चचेरे भाई यह सभी लोग हमारी बहुत ज्यादा देखभाल करते है, हमें बहुत ज्यादा प्यार भी करते है। लेकिन हम लोग पूरी ज़िंदगी उनके साथ नहीं रह सकते है। क्योंकि जैसे जैसे हम लोग बड़े हो जाते है, वैसे वैसे हमारे उपर कई सारी जिम्मेदारियां आ जाती है। जिसमे हम लोग अपने उज्वल भविष्य के लिए कुछ सपने देखते है, जिसके लिए हम लोग उन सपनो को पूरा करने के लिए कुछ उद्देश्य रखते है।

जिसके लिए अपने जीवन में उन उद्देश्य को पूरा करने के लिए अकेले यात्रा करनी पड़ती है। लेकिन अकेलेपन की वजह से वो यात्रा हमें दिलचस्प नहीं लगती है। इसलिए हम लोग इस यात्रा के लिए अपनी पारिवारिक सीमाओं के बाहर दोस्त बनाते हैं क्योंकि यह सभी जीवन की गतिविधियों को सुखद बनाते है।

बचपन की दोस्ती

बचपन की दोस्ती बहुत ज्यादा प्यारी होती है। क्योंकि बच्चों का स्वभाव अक्सर चंचल रहता है। इसलिए बच्चे हमेशा अपनी मित्रता के लिए उन लोगों की तलाश करते है।

जिनके साथ वो अपनी जिज्ञासु प्रकृति का खेल और अन्वेषण कर सके। इसी कारन की वजह से वो अपनी उम्र के किसी अन्य बच्चे से मिलते हैं तो वे खेलने के अपने सामान्य हित से आसानी से जुड़ जाते हैं।

स्कूल की दोस्ती

जिस उम्र में हम लोग स्कूल जाते है, वहा हम अपने सामान्य हितों पर दोस्त बनाते हैं। जैसे की स्कूल का कोई भी छात्र अगर खेल खेलना पसंद करता है, तब उससे बाकि के छात्र जल्दी से जुड़ जाते हैं और वे उसके दोस्त बन जाते हैं। तब यह सभी मित्र अपने सामान्य हितों से मिलते हैं और चर्चा करते हैं और अपने हितों का पोषण करते हैं।

एक स्कूल में हमारे सभी दोस्त हमेशा कक्षा की गतिविधियों और होमवर्क को समझने में एक दूसरे की मदद करते हैं। जहा वो अक्सर अपने पढाई से संबंधित संदर्भ सामग्री का एक दूसरे साथ आदान-प्रदान करते हैं।

कॉलेज जीवन की दोस्ती

हम अपने कॉलेज के जीवन में जितना समय गुजारते है, वो समय अपने जीवन का सबसे ज्यादा यादगार और सुनहरा समय होता है। जिसे हम पुरे जीवनभर याद रखते है।

लेकिन हमारा कॉलेज का जीवन तभी यादगार और सुनहरा होता है, जब हमें कॉलेज के दिनों में नये और पुराने दोस्तों का साथ मिल जाता है। ये दोस्ती की साथ उन कॉलेज के छात्रों को बहुत ज्यादा जरुरी होती है, जो छात्रावास में रहते हैं और इसलिए अपने परिवार से दूर हैं।

इसलिए यहाँ वो छात्र अपने दोस्तों के साथ मिलकर एक साथ अध्ययन करते है, एक साथ रुचि का पोषण करते है, एक-दूसरे के साथ टकराव को समायोजित करते है, हमेशा एक-दूसरे की मदद करते है, जो कॉलेज के इस दोस्ती के बंधन को और ज्यादा मजबूत बनाता है।

पेशेवर जीवन की दोस्ती

हमारे पेशेवर जीवन में भी हमारे दोस्त हमें असफलता को सकारात्मक रूप से संभालने में मदद करते हैं और सफलता की हमारी खुशी को और ज्यादा बढ़ाते हैं। सामान्य जीवन के दौरान हमारे पास परिवार, नौकरी आदि के लिए बहुत बड़ी ज़िम्मेदारियाँ होती हैं।

इसलिए हमारे दोस्तों के साथ पेशेवर और व्यक्तिगत तनाव पर चर्चा करना हमें एक सुकून देता है। जिसमे वे हमेशा हमारा मानसिक समर्थन हैं और जब हम संकट में होते हैं, तो एक अच्छा दोस्त समस्या को हल करने में मदद करता है।

  • कोरोनावायरस पर निबंध: Click Here
  • महिला सशक्तिकरण पर निबंध: Click Here

निष्कर्ष

सचमे दोस्तों के बिना हमारा जीवन अधूरा है। क्योंकि हम अपने बचपन में ज्यादातर परिवार के साथ ही रहते है। लेकिन हम जैसे जैसे बड़े हो जाते है, हमारे ऊपर जिम्मेदारियां बढ़ जाती है, संघर्ष बढ़ जाता है, जहा हमें अपने परिवार से ज्यादा अपने दोस्तों की जरुरत होती है। क्योंकि एक दोस्त हमारी गलतियों को सुधारने में मदत करता है और हमें कई तरीकों से मार्गदर्शन करता है। वो हमें अपनी पूरी क्षमता का एहसास करने के लिए भी प्रेरित करता हैं। हम ऐसे मुद्दों और विचारों को अपने मित्रों के साथ आसानी से चर्चा और साझा कर सकते हैं जिन्हें हम अपने माता-पिता के साथ साझा नहीं कर सकते हैं। इसलिए हमारे पुरे जीवन में हमें अपने दोस्तों का ज्यादा महत्व होता है। फिर चाहे वो बचपन का जीवन हो, या फिर स्कूल का जीवन हो, या फिर कॉलेज और पेशेवर जीवन हो। जीवन के इन सभी स्तरों पर हमें अपने दोस्तों की बहुत ज्यादा जरुरत होती है।