डॉ. राजेंद्र प्रसाद पर 10 लाइन (10 lines on Dr Rajendra Prasad in Hindi)

  1. डॉ. राजेंद्र प्रसाद हमारे भारत देश के सबसे पहले राष्ट्रपति थे और वह बिहार के सबसे सम्मानित व्यक्ति भी है।
  2. राजेंद्र जी ने पूरे 10 साल तक राष्ट्रपति पद को संभाला है।
  3. 10 साल के उनके राष्ट्रपति पद के कार्यकाल में भारत देश के हर एक क्षेत्र में विकास हुआ था, इसलिए आज भी देश के प्रति उनकी सेवाओं को बहुत मूल्यवान और महान माना जाता है।
  4. डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी का जन्म 3 दिसंबर 1884 को बिहार के सीवान जिले के जीरादेई गांव में हुआ था।
  5. उनके बड़े भाई श्री महेंद्र प्रसाद ने राजेंद्र प्रसाद का पालन-पोषण किया, उन्हें पढ़ाया सिखाया और उच्च शिक्षा प्राप्त करने में उनकी बहुत मदद की।
  6. राजेंद्र बाबू ने पटना के टी.के. घोष एकेडमी में शिक्षा ग्रहण करके कलकत्ता विश्र्वविद्यालय से वर्ष 1900 में अव्वल दर्जे में इंट्रेन्स परीक्षा पास की जिसमे उन्हें सबसे ज़्यादा अंक हासिल हुए।
  7. वर्ष 1906 में उन्होंने एम. ए. की परीक्षा अच्छे अंकों से पास की और फिर एम. एल. की परीक्षा में भी उपस्थित हुए और वे अपनी सभी परीक्षाओं में हमेशा अव्वल रहे, यही उनकी शिक्षा और कला की झलक है।
  8. अपनी शिक्षा के बाद, राजेंद्र ने पहले कलकत्ता, फिर पटना उच्च न्यायालय में वकालत शुरू की। वकालत के क्षेत्र में उन्हें अच्छी सफलता मिली, जिस कारण इस क्षेत्र में उनका बड़ा नाम हुआ और फिर उनकी अच्छी कमाई होने लगी।
  9. राजेंद्र जी ने भारत की संस्कृति और आम लोगों का खुलकर प्रतिनिधित्व किया, यही वजह है कि वे सभी के लिए प्रेरणा के स्रोत बन गए।
  10. डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी ने सबसे पहले अर्थशास्त्र के क्षेत्र में M.A. की डिग्री हासिल की और फिर उन्होंने साल 1915 में मास्टर इन लो की परीक्षा में श्रेष्ठ स्थान प्राप्त कर स्वर्ण पदक जीता। जिस कारण उन्हें कई बार सम्मानित भी किया गया था और उनकी यह सफलता पुरे देश के लिए प्रोत्साहन का कारण बनी।
error: Content is protected