हरित क्रांति पर निबंध हिंदी में (Essay on Green Revolution in Hindi)

हरित क्रांति आधुनिक समय की तकनीकों और कार्यप्रणाली के माध्यम से कृषि उत्पादन को बढ़ाने और सुधारने का अभ्यास है। 1950 और 1960 के दशक के बीच हरित क्रांति हुई। 

जिसने विश्व स्तर पर विशेष रूप से विकासशील देशों में फसलों के उत्पादन को प्रभावी ढंग से बढ़ाया। हरित क्रांति में उर्वरकों, कीटनाशकों, HYV बीजों और सिंचाई के आधुनिक तरीकों का उपयोग शामिल है जो सामूहिक रूप से बड़े कृषि उत्पादन में मदद करते हैं।

हरित क्रांति का सांख्यिकीय परिणाम

हरित क्रांति के कारण अपने भारत देश में साल 1978 से लेकर 1979 में लगभग 131 मिलियन टन का अनाज उत्पादन हुआ था। इसलिए इसकी वजह से भारत पूरी दुनिया में सबसे बड़ा कृषि उत्पादक देश बन गया।

भारत देश में हरित क्रांति ने उच्च स्तर की सफलता दर्ज की। इसलिए भारत देश उस समय से खाद्यान्न का निर्यातक भी बन गया।

नई पद्धत और तकनीक 

नई पद्धतियों और तकनीकों की शुरूआत ने कृषि के क्षेत्र में हरित क्रांति ला दी। सभी नवीनतम विधियों को अचानक कृषि में लाया गया, जिसने उत्पादन में तेजी से वृद्धि की और इसलिए इसे कृषि में हरित क्रांति के रूप में जाना जाता है।

हरित क्रांति के लाभ 

हरित क्रांति ने मानव जाति को कई लाभ प्रदान किए हैं जैसे कि फसलों से अधिक उपज देने में मदद की। इससे अंततः बढ़ती आबादी के लिए पर्याप्त मात्रा में भोजन उपलब्ध कराने में मदद मिली।

इसने उत्पादन लागत को भी कम कर दिया क्योंकि बड़ी उपज फसलों और श्रम की समान संख्या से की जा सकती थी, जिसके परिणामस्वरूप उपभोक्ता लागत में कमी आई।

पर्यावरण की रक्षा

हरित क्रांति भी पर्यावरण की रक्षा करती है क्योंकि एक ही फसल से अधिक उपज के कारण कृषि भूमि के लिए आवश्यक वनों की कटाई कम होगी। यदि उस जगह की पर्यावरणीय परिस्थितियों का समर्थन करने के लिए उचित कृषि तकनीकों का उपयोग किया जाता है, तो कहीं भी फसलों को उगाना संभव हो गया है। इसने गरीबों और जरूरतमंदों के लिए रोजगार के अवसर भी पैदा किए हैं।

हरित क्रांति के नुकसान

हरित क्रांति के कुछ नुकसान भी हैं और साथ ही इसमें कीटनाशकों और कीटनाशकों का उपयोग भी शामिल है जो कभी-कभी फसलों और पौधों को विषाक्त बना सकते हैं। इसके अलावा, यह विषाक्त सामग्री मिट्टी और आस-पास के जल निकायों के साथ मिल सकती है जो जलीय जीवन को भी नुकसान पहुंचा सकती है। कुछ किसान आधुनिक समय की तकनीकों और वस्तुओं का उपयोग नहीं कर सकते हैं जो असमानता और गरीबी की ओर जाता है।

निष्कर्ष 

हरित क्रांति ने कृषि उद्योग को सकारात्मक रूप से प्रभावित किया है और कई गरीब लोगों को उनके गरीबी से ग्रस्त जीवन से बाहर आने में मदद की है। इसलिए, यह मानव जाति के इतिहास में एक महान क्रांति है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: