मिस्र देश के बारे में कुछ रोचक बाते (Interesting facts of Egypt)

मिस्र देश को हर कोई जानता है। क्योंकि जब भी इस देश का नाम आता है तब सभी के आंखों के सामने पिरॅमिड और मम्मी ही दिखती है। इस देश के ऊपर और इस देश के संस्कृति के ऊपर बहुत सारे हॉलीवुड फिल्मे बनी है। इस देश का भी इतिहास उतना ही प्राचीन है जितना अपने भारत देश का इतिहास है।

मिस्र देश के प्राचीन इतिहास में कुछ ऐसी चीजे भी मिली है जिससे इस देश के प्राचीन काल का संबंध अपने अपने भारत देश के प्राचीन काल से है ये दिखता है। प्राचीन मिस्र का इतिहास उत्तरी नील नदी की प्रारंभिक प्रागैतिहासिक बस्तियों से लेकर ईसा पूर्व 30 तक मिस्र की रोमन विजय तक फैला हुआ है।

फैरोनिक काल, जिस अवधि में मिस्र पर एक फिरौन द्वारा शासन किया गया था, वह ईसा पूर्व 32 वीं शताब्दी से माना जाता है, जब ऊपरी और निचले मिस्र को एकीकृत किया गया था,

चलिए जानते है मिस्र देश के बारे में कुछ रोचक बाते

मिस्र में पाँच मिलियन फेसबुक उपयोगकर्ता हैं, जो किसी भी अन्य मध्य पूर्वी देश से अधिक है।

मिस्र देश में अरबी लोगों की लोकसंख्या पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है।

लगभग 90% मिस्र के लोग मुस्लिम, 9% कोप्टिक और 1% ईसाई लोग रहते हैं।

मिस्र के इतिहास में सबसे लंबा शासन काल फिरौन पेपी ने किया था पुरे 94 साल तक क्योंकि फिरौन पेपी केवल 6 वर्ष की आयु में राजा बना था।

प्राचीन मिस्र के पिरामिडों की आकृति सूर्य की फैलती हुई किरणों से प्रेरित थी।

मिस्र में प्रति वर्ष औसतन केवल एक इंच बारिश होती है।

मिस्र के पुरुषों के लिए साक्षरता दर 83% और महिलाओं के लिए 59.4% है।

अरबों ने सातवीं शताब्दी में इस्लाम धर्म और अरबी भाषा को लेकर मिस्र में पेश किया था।

मिस्र देश दुनिया का 15 वां सबसे अधिक आबादी वाला देश बन है।

मिस्र में प्रसिद्ध ग्रेट पिरामिड को किंग खुफू के लिए एक दफन स्थान के रूप में बनाया गया था और इसे बनाने में 20 वर्ष से अधिक वर्षों का समय लगा था।

प्राचीन मिस्रवासियों ने न केवल लोगों को बल्कि जानवरों को भी ममीकृत किया। पुरातत्वविदों ने एक 15-फुट लंबे ममीयुक्त मगरमच्छ की खोज की थी।

प्राचीन मिस्र की महिलाओं के पास प्राचीन दुनिया की अन्य महिलाओं की तुलना में अधिक अधिकार और विशेषाधिकार थे। उदाहरण के लिए, वे संपत्ति के मालिक हो सकते थे, व्यापारिक सौदे कर सकते थे और तलाक भि ले सकते थे।

प्राचीन मिस्रियों के लिए रोटी सबसे महत्वपूर्ण भोजन था और बीयर उनका पसंदीदा पेय था।

प्राचीन मिस्र के तीन अलग-अलग कैलेंडर थे: एक रोज़ाना खेती कैलेंडर, एक खगोलीय कैलेंडर और एक चंद्र कैलेंडर।

मिस्र का पहला पिरामिड ई.पू. 2600 में फिरौन Djoser के लिए प्रसिद्ध मिस्र के वास्तुकार इम्होटेप द्वारा बनाया गया एक चरण पिरामिड था।

प्राचीन मिस्र के लोग 1,000 से अधिक विभिन्न देवी-देवताओं की पूजा करते थे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: