कोरोनावायरस पर निबंध हिंदी में (Essay on Coronavirus in Hindi)

कोरोना एक वायरस है, जो संक्रमण की माध्यम से पूरी दुनिया में बहुत तेजी से फैलने वाली बीमारी बन गया है। जिससे हर दिन लाखों की संख्या में लोग इस वायरस से संक्रमित हो रहे है। इसका कारण यह है की, ये वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में संक्रमित हो जाता है।

ऐसा कहा जाता है की, ये वायरस हवा की माध्यम से भी फैल जाता है। आज ये महामारी पूरी दुनिया में तेजी से फैल रही है। जिसके कारण इस वायरस की वजह से लोगों की बहुत ज्यादा मात्रा में मृत्यु हो जाती है। इसलिए हमे इससे बचने के लिए जल्दी से ऐसी दवाई का निर्माण करना होगा जो इस वायरस को जड़ से खत्म कर सके।

विश्व स्वास्थ्य संघटन जिसे हम लोग WHO कहते है। उस संघटन ने इस कोरोना के बीमारी को वैश्विक महामारी के रूप में पुष्टि की है। जिसे हम COVID-19 भी कहते है। क्योंकि यह बीमारी दुनिया के आधे से ज्यादा देशों मे फैल गई है।

कोरोनावायरस का जन्म

ऐसा कहा जाता है की, कोरोना वायरस की उत्पत्ति चीन का एक शहर वुहान में हुई थी। दुनिया के सबसे पहले कोरोना वायरस के मरीज इसी शहर में मिले थे। इसका कारण यह है की, इस वुहान शहर में कई प्रकार के पशु – पक्षियों के प्रजातियों का मास बेचा जाता था। जो पूरी तरह से दिल दहला देने वाली बात थी।

वहा के वैज्ञानिकों का कहना है की इसी पशु पक्षियों को बेचने वाले बाजार में चमगादड़ नामक एक पक्षी की प्रजाति इस कोरोना से संक्रमित थी। जिसका मास खाने की वजह से ये वायरस बहुत तेजी से इंसानों में फैल गया।

कुछ लोगों का ये भी कहना है की, उस शहर मे स्थित एक संस्था जिसका नाम है वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी। जिसमे इस वायरस पर प्रयोग हो रहे थे। लेकिन वो प्रयोग करते समय किसी को इस वायरस की लागण हुई और बादमें ये वायरस पूरी दुनिया में फैल गया। लेकिन इसका कोई ठोस सबूत नहीं है।

कोरोना वायरस के लक्षण

आज इस दुनिया में कोरोना वायरस इस महामारी ने पूरी तरह से उत्पात मचाया हुआ है। फिलहाल तो इस कोरोना वायरस से पूरी तरह ठीक होने की कोई दवा इस दुनिया में उपलब्ध नहीं है। लेकिन इस दुनिया में हर देश के वैज्ञानिक इस कोरोना वायरस को ठीक करने के लिए कई सारे प्रयोग कर रहे है।

जिसको बहुत ज्यादा वक्त  लग सकता है। लेकिन उन्होंने इस बीमारी से जुड़े कुछ लक्षण हमे बताए है, जिससे हम लोग इस वायरस से बच सकते है। इसमे अगर किसि को सर्दी, ज्यादा खांसी, सांस लेने में तकलीफ होती है, तो ये सामान्य लक्षण होते है।

लेकिन अगर किसी मरीज को इन सभी लक्षणों के साथ अंग की विफलता और निमोनिया होता है तो ये सभी लक्षण कोरोना के बहुत गंभीर लक्षण है। जो उस व्यक्ति के लिए भी और उसके आसपास के लोगों के लिए भी हानिकारक साबित हो सकता है।

कोरोना से बचने के उपाय

इस कोरोना वायरस से ठीक होने की फिलहाल तो कोई दवाई नहीं है। लेकिन इस वायरस से बचने के कुछ उपाय है। जिससे हम लोग इस वायरस से बच सकते है। जैसे की अपने हाथ सेनेटाइज़ेर या फिर साबुन से 1 मिनट तक धोए। जिससे अपने हाथों में बसे किटाणुओ का खात्मा हो सके।

हमेशा बाहर से आने के बाद चाहे वो बाजार से आए या फिर किसी से मिलके आए अपने हाथ 60% अल्कोहल वाले हैंड सैनिटाइज़र से साफ करें। हमेशा छींकते या खाँसते समय मुह पर रुमाल या डिस्पोजेबल टिश्यू का इस्तेमाल करे। जिससे छींकने से या फिर खाँसने से अपने मुह से बाहर निकलने वाले किटाणु उस रुमाल या टिश्यू पर रुख जाएंगे।

अगर आपके हाथ साफ नहीं है तो वो हाथ साफ करने से पहले अपने चेहरे पर ना लगाए। अपने घर को हमेशा साफ रखे। आपके और खांसने वाले लोगों के बीच कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाए रखें। यदि आप अस्वस्थ महसूस करते हैं तो घर पर रहें। धूम्रपान और फेफड़ों को कमजोर करने वाली अन्य गतिविधियों से बचना चाहिए। अनावश्यक यात्रा से बचने और लोगों के बड़े समूहों से दूर रहे।

निष्कर्ष 

पूरी दुनिया के सभी देश इस महामारी की वजह से पीढ़ित है। इसलिए दुनिया की सभी सरकारे इस वायरस को रोकने के लिए बहुत सारी कोशिशे कर रही है। लेकिन अभी तक कोई मार्ग नहीं मिला है। इसलिए इस वायरस से बचने के लिए हमे सभी उपायों का पालन करना होगा। जिससे इस महामारी से बचा जा सके।

  • कोरोना के योद्धा पर निबंध: Click Here
  • कोरोनावायरस के बाद जीवन पर निबंध: Click Here
  • कोरोना वायरस पर निबंध १०० शब्दों में: Click Here
  • कोरोना वायरस पर निबंध २०० शब्दों में: Click Here
  • कोरोना वायरस से बचाव पर निबंध: Click Here
error: Content is protected