किसान पर निबंध (Essay on Farmer in Hindi)

अपना भारत देश एक कृषिप्रधान देश है। जहा किसान अपने देश के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए किसान को देश का एक सैनिक माना गया है।

क्योंकि अगर हमारे देश के सिमा पर सैनिक नहीं होंगे तो हमारे देश के दुश्मन हमारे देश के ऊपर हमला कर सकते है, इसी तरह अपने देश में अगर किसान नहीं होंगे तो खेती नहीं हो सकती और खेती नहीं होंगी तो अपने देश का हर एक नागरिक भूखा रह जायेगा, फिर चाहे वो सिमा पर लड़ रहा जवान ही क्यों ना हो।

इसलिए किसान हमारे समाज के रीढ़ की हड्डी हैं। इसलिए उन्हीं के वजह से हम लोग सभी प्रकार का भोजन खा सकते है। जिस कारण हम लोग कभी भूखे नहीं रहते है, जो उन्हीं की देन है।

किसान पर निर्भरता

इस दुनिया में चाहे कौनसा भी देश हो। चाहे वो एक विकसित देश हो, विकसनशील देश हो या फिर एक गरीब देश हो। पूरी दुनिया में हर एक देश में किसान एक सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति होता है।

जिनके ऊपर पूरा देश निर्भर रहता है। उस देश के पूरी आबादी का जीवन किसानों पर निर्भर होता है। इस तरह एक किसान पूरी दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण लोगों में से एक है। जिनके ऊपर पूरी दुनिया निर्भर है।

हमारे जीवन की आवश्यकता

एक किसान को सभी देशों में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति माना जाता है। अपना भारत देश एक कृषिप्रधान देश होने की वजह से अपने देश में किसान को बहुत बड़ा महत्व होता है।

इस किसानों की वजह से ही हम लोगों को आराम से दो वक्त का भोजन मिलता है। जो हर इंसान को अपना जीवन जीने के लिए आवश्यक होता है। इसलिए किसान हम सभी लोगों की एक आवश्यकता है।

किसानों के प्रकार

देश में किसान एक महत्वपूर्ण इंसान है, जिसकी वजह से हम सभी को हर रोज भोजन मिलता है। लेकिन इन किसानों में भी कई प्रकार है। इसलिए अलग अलग प्रकार की खेती अलग अलग प्रकार के किसान करते है।

जिसमे कुछ किसान चावल, गेहूं और जौ की फसल उगाते है। जो देश के हर एक घर में जरुरी होता है। इसलिए इस प्रकार के किसानों को प्रमुख महत्व होता है। दूसरे वो किसान होते है, जो फल और सब्जियों की खेती करते है। ऐसे ही कई सारे किसान है जो विभिन्न प्रकार की खेती करते है।

देश के अर्थव्यवस्था में योगदान

इन किसानों की वजह से ही अपने भारत देश के अर्थव्यवस्था में करीब 17 प्रतिशत तक योगदान होता है। किसानों का यह योगदान भारतीय अर्थव्यवस्था में सभी चीजों के मुकाबले सबसे ज्यादा है।

इतना योगदान देने के बावजूद भी अपने देश का किसान उसके कई सारी जरूरतों से दूर है। मतलब उसको कई सारी जरूरतों की सुविधाएं नहीं मिलती है। जिसपर सरकार को ध्यान देने की आवश्यकता है।

किसानों की हालत

देश के पुरे आबादी के लिए किसान एक महत्वपूर्ण व्यक्ति है। जिसको देश के रीड की हड्डी कहा जाता है। जिनकी वजह से हम सभी लोग अपना जीवन जी रहे है। लेकिन अपना भारत देश जिन किसानो की वजह से एक कृषिप्रधान देश कहलाता है, जिन किसानों का अपने देश के अर्थव्यवस्था के प्रगति में 17 प्रतिशत तक योगदान रहता है, आज उन्ही किसानों की हालत बहुत ज्यादा गंभीर है।

साल के बाराह महीने हम लोग किसान आत्महत्या की खबरे सुनते है। जिसे हमारे देश का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है, वही किसान आज के समय में बहुत कठिन जीवन जी रहा है। इसका सबसे बड़ा कारन है उनको पैसों की कमी।हम सभी के लिए किसान खेती तो करते है, लेकिन उनको उस मेहनत के हिसाब से वेतन नहीं मिलता है। मतलब उनको उचित उत्पन्न नहीं मिलता है।

जिस कारण किसान अपनी जरूरतों को कभी पूरा नहीं कर सकता है। कभी कभी तो उनके घर पर उन्हें एक वक्त का खाना भी नहीं मिलता है। पैसों की कमी की वजह से यह लोग अपने बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने के लिए स्कूल भी नहीं भेज सकते है। इन मुसीबतों को देखते हुए किसान आत्महत्या करने का प्रयास करते है।

  • कोरोनावायरस पर निबंध: Click Here
  • महिला सशक्तिकरण पर निबंध: Click Here

निष्कर्ष

अपने भारत देश को एक कृषिप्रधान देश माना गया है। जहा खेती अपने देश का एक महत्वपूर्ण भाग है। लेकिन ये खेती करने के लिए बहुत ज्यादा परिश्रम करने होते है। जो सिर्फ एक किसान ही कर सकता है। लेकिन कम वेतन के कारण उनकी गरीबी बहुत ज्यादा बढ़ रही है, जिस कारण वो अपनी जरूरते पूरी नहीं कर सकते है, इसलिए किसान आतमहत्या की संख्या में वृद्धि हो रही है। जो अपने देश के लिए बहुत ज्यादा गंभीर बात है। इसलिए सरकार को ये संकट समाप्त करने के लिए बहुत सारी योजनाएं बनानी होंगी। जिससे आगे चलकर अपने देश को ही लाभ होगा।

2 Comments